Home Blog Page 23

Who was Brahman ब्राह्मण कौन थे

0

Who was Brahman ब्राह्मण कौन थे

ये प्रथाएं यज्ञ से संबंधित हैं।

  • वैदिक मन्त्रों तथा संहिताओं की गद्य टीकाओं को ब्राह्मण कहा जाता है।
  • पुरातन ब्राह्मण में ऐतरेय, शतपथ, पंचविश, तैतरीय आदि विशेष महत्वपूर्ण हैं।
  • ब्राह्मण ग्रंथों की रचना संहिताओं के कर्मकांड की व्याख्या करने के लिए की गई थी।
  • यह मुख्यतः गद्य शैली में लिखित है।
  • ब्राह्मण ग्रंथों से हमें बिम्बिसार के पूर्व की घटना का ज्ञान प्राप्त होता है।

एतरेय कौसितकी ब्राहम्ण

  • एतरेय ब्राह्मण में आठ मंडल हैं तथा पांच अध्याय हैं।
  • एतरेय कौसितकी ब्राहम्ण ऋग्वेद से संबंधित है।
  • इसे पञ्जिका भी कहा जाता है।
  • एतरेय ब्राह्मण सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण है
  • ऐतरेय ब्राह्मण में राज्याभिषेक के नियम प्राप्त होते हैं।

शतपथ ब्राह्मण

  • शतपथ ब्राह्मण में गंधार, शल्य, कैकय, कुरु, पांचाल, कोसल, विदेह आदि का उल्लेख होता है।
  • शतपथ ब्राह्मण यजुर्वेद से संबंधित है
  • शतपथ ब्राह्मण ऐतिहासिक दृष्टी से सर्वाधिक महत्वपूर्ण ब्राह्मण है।

गोपथ ब्राह्मण

  • सर्वाधिक परवर्ती ब्राह्मण गोपथ है
  • गोपथ ब्राह्मण अथर्ववेद से संबंधित है

आरण्यक ब्राह्मण

  • आरण्यक की रचना जंगल में ऋषियों द्वारा की गई थी।
  • इसका प्रमुख प्रतिपाद्य विषय रहस्यवाद, प्रतीकवाद, यज्ञ और पुरोहित दर्शन है।
  • वर्तमान में सात अरण्यक उपलब्ध हैं।
  • सामवेद और अथर्ववेद का कोई आरण्यक नहीं है।

For More Topics related to Indian Ancient History Click Here

इसी तरह अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए यहां दबाएं


Like our Facebook Page        Click Here
Visit our You Tube Channel  Click Here


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.

What is Atharvaveda अथर्ववेद क्या है

0

What is Atharvaveda अथर्ववेद क्या है


हम सभी जानते हैं कि वेद चार प्रकार के होते हैं और अब तक हमनें जाना 03 वेदों के बारे में तो चलिए जानते हैं इस वेद के बारे में भी।

  • यह वेद अथर्व ऋषि द्वारा रचित है
  • इसमें रोग, निवारण, तंत्र, मंत्र, जादू टोना, वशीकरण, शाप, अाशीर्वाद, स्तुति, प्रायस्चित, अनुसंधान, विवाह, प्रेम, राजकर्म, मातृभूमि-महात्मय आदि विभिन्न विषयों से संबंध मंत्र तथा सामान्य मनुष्यों के विचारों, विश्वासों, अंधविश्वासों आदि का वर्णन है।
  • यह वेद 20 अध्यायों में संगठित है तथा इसमें 700 सूक्त तथा 6000 के लगभग मंत्र हैं
  • अथर्ववेद कन्याओं के जन्म की निंदा करता है।
  • इसी वेद में सभा तथा समिता की दो पुत्रियां कहा गया है।
  • सबसे प्राचीन वेद ऋग्वेद तथा सबसे बाद का वेद अथर्ववेद है।
  • इसे अनार्यों की कृति माना जाता है

For More Topics related to Indian Ancient History Click Here

इसी तरह अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए यहां दबाएं


Like our Facebook Page        Click Here
Visit our You Tube Channel  Click Here


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.

What is Samveda सामवेद क्या है

0

What is Samveda सामवेद क्या है


चलिए जानते हैं सामवेद के वारे में क्या है सामवेद। नीचे दिए हुए है कुछ विंदु जो सामवेद के बारे में आपको महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

  • इस वेद की रचना ऋग्वेद में दिए गए मंत्रों को गाने योग्य बनाने हेतु की गयी थी।
  • इसमें 1810 छंद हैं जिनमें 75 के छोड़कर शेष सभी ऋग्वेद में दिए गए हैं।
  • इस वेद को भारत की प्रथम संगीतात्मक पुस्तक होनें का गौरव प्राप्त है।
  • यह गायी जा सकने वाली ऋचाऔं का संकलन है।
  • गेय ग्रथ भी इसी वेद को कहते हैं
  • इसके पाठनकर्ता को उद्रातृ कहते हैं।
  • इसे ही भारतीय संगीत का जनक कहा जाता हैं। ( Samveda is the The Father of Indian Music)

For More Topics related to Indian Ancient History Click Here

इसी तरह अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए यहां दबाएं


Like our Facebook Page        Click Here
Visit our You Tube Channel  Click Here


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.

What is Yajurveda यजुर्वेद क्या है

0

What is Yajurveda यजुर्वेद क्या है


  • यजु का अर्थ होता है यज्ञ
  • इस वेद में यज्ञ का वर्णन किया गया है
  • सस्वर पाठ के लिए मंत्रों तथा बलि के समय अनुपालन के लिए नियमों का संकलन यजुर्वेद कहलाता है।
  • इसके पाठकर्ता का अध्यवर्यु कहते हैं।
  • य़ही एक एेसा वेद है जो गद्य एवं पद्य दोनें में रचित है
  • विभिन्न मंत्र इसी वेद में हैं
  • अनुष्ठान का उल्लेख भी इस वेद में है
  • सर्वप्रथम राजसूय यज्ञ का उल्लेख भी इसी वेद में किया गया है।

For More Topics related to Indian, Ancient History Click Here

इसी तरह अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए यहां दबाएं


Like our Facebook Page        Click Here
Visit our You Tube Channel  Click Here


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.

Ancient Indian History

0

Ancient Indian History

Welcome to the Ancient Indian History Page. In this page, you can read about various topics related to Ancient Indian History. So keep on reading and sharing it with others so that others also can get something knowledge about it through our easy to learn platform.

  1. What is Rigveda-ऋग्वेद क्या है
  2. What is Yajurveda- यजुर्वेद क्या है
  3. What is Samveda- सामवेद क्या है
  4. What is Atharvaveda- अथर्ववेद क्या है
  5. Who is Brahman- ब्राह्मण कौन हैं
  6. What is Upanishad- उपनिषद क्या है
  7. What is Vedanga- वेदांग क्या है
  8. What is Purana- पुराण क्या है
  9. How was Rigvedic period- ऋग्वेदिक काल कैसा था
  10. Do you know what is Indus valley civilization क्या आप सिंधु घाटी की सभ्यता को जानते हैं
  11. Do you know History of Jainism क्या आप जैन धर्म का इतिहास जानते हैं
  12. History of Buddhism Religion- बौद्ध धर्म का इतिहास
  13. History of Shaivism- शैव धर्म का इतिहास जानिए
  14. History of Vaishnavism- वैष्णव धर्म का इतिहास
  15. The Origin of Islam Religion- इस्लाम धर्म का इतिहास जानिए
  16. History of Christian Religion- ईसाई धर्म का इतिहास

 

 

 


Like our Facebook Page.      Click Here
Visit our You Tube Channel  Click Here

What is Rigveda ऋग्वेद क्या है

0

What is Rigveda ऋग्वेद क्या है


ऋचाओं के क्रमबद्ध ज्ञान के संग्रह को ऋग्वेद कहा जाता है। इसमें निम्नलिखित चीजें शामिल होती हैं।

  1. 10 मंड़ल (Books)
  2. 1028 सूक्त/श्लोक
  3. 10,462 ऋचाएं
  4. 100 से जादा प्रार्थनाएं हैं
  • ऋग्वेद की भाषा संस्कृत है।
  • ऋग्वेद को पढ़ा और लिखा नहीं जाता है केवल इसका उच्चारण होता है।
  • इसकी पान्डुलिपी भूर्ज वृक्ष की छाल पर लिखी गई है जोकि कश्मीर से पाई गई है।
  • इसके रचयिता आर्य तथा विरोधी दास थे
  • इस वेद के ऋचाओं के पढ़नें वाले ऋषि को हैतृ कहते हैं।
  • इस वेद से आर्य के राजनीतिक प्रणाली एवं इतिहास के बारे में जानकारी मिलती है।
  • पुरुषसूक्त- जाति प्रथा का पहला संदर्भ इसी से मिलता है।
  • विश्वामित्र द्वारा रचित ऋग्वेद के तीसरे मंड़ल में सूर्य देवता सावित्री को समर्पित प्रसिद्ध गायत्री मंत्र है।
  • इसके आठवें मंड़ल की हस्तलिखित ऋचाओं को सिल कहा जाता है।
  • वामनावतार के तीव पगों के आख्यान का प्राचीनतम स्त्रोत ऋग्वेद है।
  • इसी में इन्द्र के लिए 250 तथा अग्नि के लिए 200 ऋचाओं की रचना की गयी है।

इसी तरह अन्य टापिक्स पर जादा जानकारी के लिए क्लिक करें

Like our Facebook Page.        Click Here
Visit our You Tube Channel   Click Here

 


Disclaimer:- All the information provided by www.babajiacademy.com is only for the quick information. Our effort is to provide the information up to date and correct. We make no representations or warranties of any kind, express or implied, about the completeness, accuracy, reliability, suitability or availability with respect to the website. We are not responsible for any loss to anybody or any shortcoming, defect or inaccuracy caused to anybody by the information from this website.